दिल की ही राह पकड कर चलिये…


ये बुझी, बुझी से राख मे,
क्यों ये अंगारे दहकने लगे,
अपनी हसरतों की आग है शायद;
जो ये शोले फिर सुलगने लगे|

दफना कर तमन्नाओं को अपनी,
जीं रहे थे बेमतलब जिंदगी युँ ही,
पनपते रहे दिलमे वो अरमान शायद;
जो पत्ते सुखी शाख पर, फिर फुटनें लगे|

मंजिल के लिये दिल फिर तडपने लगा,
फिर अनजान राहों से प्यार होने लगा,
मंजिल मिले, न मिले शायद;
नामुमकीन सफर के लिये फिर तरसने लगे|

दुनिया की रस्मों को छोड भी दिजिये,
अब दिल की ही राह पकड कर चलिये,
अपनी खुली सांस का असर है शायद;
जो मुरझाये हुए फुल फिर महकने लगे|

© Manish Hatwalne
(Originally written on : 25 Feb 2010)

Advertisements

One thought on “दिल की ही राह पकड कर चलिये…

  1. Hi Manish,

    Sachin from the REBT batch here. What a thoughtful poem, this one! Tujhi pratibha afaat ahe. And you are allowing it to blossom… that’s really inspirational!

    Shall call you soon… its time to catch up!

    Sachin

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s